ट्रेजिडी किंग दिलीप कुमार का 94वां जन्मदिन

बॉलीवुड के ट्रेजिडी किंग दिलीप कुमार का आज 94वां जन्मदिन है। दिलीप कुमार की फिल्म इंस्ट्री में आज एक वेटरेन कलाकार के रुप में छवि होना बिल्कुल भी आसान नहीं रहा है। उनका इस मुकाम तक पहुंचने का सफर बहुत ही संघर्षपूर्ण रहा है। आइए दिलीप के सफर के बारे में बात करते हैं।

Happy Birthday, #DilipKumar. Dilip Kumar, the epitome of star power and stardom, is one of the finest and the greatest actors, the world can ever have, and one and all appreciate his marvelous and magnificent acting skills. Dilip Sahab, as he is fondly known as, has given to the world of cinema, many beauteous and resplendent movies that will be remembered for a lifetime. Dilip Kumar (born Muhammad Yusuf Khan; 11 December 1922) is an Indian film actor, producer, writer and activist. Also known as the Tragedy King, he is credited with bringing realism to film acting since his first film which was released in 1944. He is considered one of the greatest and most influential actors of all time. He has been described as "the ultimate method actor" (natural actor) by Satyajit Ray. Kumar is one of the biggest Indian movie stars, and a pioneer of method acting, predating Hollywood method actors such as Marlon Brando. Kumar debuted as an actor in the film Jwar Bhata (1944), produced by Bombay Talkies. His career has spanned over six decades and over 65 films. Kumar is known for roles in films such as the romantic Andaz (1949), the heartwarming Babul (1950), the impassioned Deedar (1951), the swashbuckling Aan (1952), the dramatic Devdas (1955), the comical Azaad (1955), Naya Daur (1957), Yahudi (1958), Madhumati (1958), Kohinoor (1960), the epic historical Mughal-e-Azam (1960), the social Gunga Jamuna (1961) and Ram Aur Shyam (1967). In 1976, Dilip Kumar took a five-year break from film performances and returned with a character role in the film Kranti (1981) and continued his career playing leading roles in films such as Shakti (1982), Karma (1986) and Saudagar (1991). His last film was Qila (1998). Follow @bollywoodirect . . . . . . . . #bollywood #bollywoodirect #instabollywood

A post shared by Bollywoodirect (@bollywoodirect) on

दिलीप कुमार का असल नाम यूसुफ खान है। फिल्म इंडस्ट्री में एक बेहतरीन छवि बनाने के लिए उन्होंने अपना नाम बदला।

Happy Birthday!!! To Bollywood's most Cherished,Loved and my most most Favourite Actor "THE SHEHZADA" ❤️❤️❤️Dilip Kumar(Yusuf Khan) A actor that did every single role CONVINCINGLY from being the tragedy king(Andaz,Deedar,Daag, Amar, Devdas,Mughal E Azam and many more) to the romantic/action star(Tarana, Aan,Azaad, Insaniyat, Naya Daur, Madhumati, Gunga Jumna, Shakti and many more), to the handsome comedy king(Azaad, Kohinoor, Leader, Ram Aur Shyam and many more) and lastly his contribution socially(Shaheed,Footpath,Yahudi, Paigham and many more) Besides acting he's been the best husband to Saira Banu and a inspiration to millions(including myself) May the Almighty ALLAH ? always keep Yusuf Sahab and Saira Ji with best of health and grant them many more birthdays to come. Ameen❤️✨ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ ⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀⠀ #DilipKumar #Legend #actor #birthday #handsome #film #movie #art #hollywood #desi #india #indiancinema #pakistan #england #instagood #mashAllah #subhanAllah #bollywood #bollywoodsongs #bollywoodstyle #bollywoodactor #classic #classicbollywood #oldbollywood #oldbollywoodsongs #oldhindisongs #OldIsGold #retro #retrobollywood #OldBollywoodFilms

A post shared by Old Bollywood Films (@oldbollywoodfilms) on

दिलीप के पिता फलों का काम करते थे, लेकिन एक समय के बाद दिलीप और उनके पिता में झगड़े सा महौल बन जाता था, जिसके बाद दिलीप ने पूणे की ओर रुख किया।

अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़ होने के कारण पूणे में दिलीप को नौकरी मिल गई। कुछ वक्त दिलीप ने एक  आर्मी क्लब में सैंडविच स्टॉल भी लगाई। इस स्टॉल का कॉन्ट्रेक्ट खत्म होते ही दिलीप सीधे मुंबई की ओर मुड़ गए।

मुंबई में दिलीप की मुलाकात एक डॉक्टर से हुई जो कि उन्हें बॉम्बे टॉकीज ले गए। बॉम्बे टॉकीज की मालकिन देविका रानी ने दिलीप को टॉकीज में नौकरी दे दी।

उर्दू में अच्छी पकड़ होने के कारण दिलीप अक्सर स्क्रिप्टिंग में सहायता करते थे।

Old is gold #dilipkumar #rajkapoor #devanand

A post shared by RԹʝՎeՏɧ ? (@rajyesh_shrma) on

इसके बाद दिलीप की मुलाकात कई कलाकारों से हुई।

#dilipkumar

A post shared by S . Kuwait (@bollywood.q80) on

देविका रानी ने दिलीप कुमार में हमेशा ही एक अभिनेता को देखा था। दिलचस्प बात तो ये है कि देविका ने ही यूसुफ को दिलीप के अंदाज में ढाला और दिलीप के करियर की पहली फिल्म साइन कराई, जो कि ज्वार- भाटा रही। इसमें दिलीप मुख्य भूमिका में नजर आए।

दिलीप के अफेयर्स के बारे में कई सच और कई झूठ रहे, लेकिन दिलीप इन अफवाहों से हमेशा इंकार किया करते थे।

दिलीप के दिल की गांठ जिस चेहरे से बंधी, वो अभिनेत्री सायरा बानों का था। इस मोहब्बत को दिलीप और सायरा ने शादी के बंधन में तब्दील भी किया।

#shahrukhkhan #dilipkumar

A post shared by S . Kuwait (@bollywood.q80) on

दिलीप कुमार फिल्म इंडस्ट्री के वो सितारे हैं, जिसकी चमक आज भी फीकी नहीं पड़ी है। आज के नए कलाकार भी उन्हें एक इंस्पिरेशन के तौर पर देखते हैं। दिलीप कुमार को कई फिल्मों के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कारों से नवाजा गया है। इसके अलावा इन्हें दादा साहब फाल्के पुरस्कार और पद्मभूषण से भी सम्मानित किया गया है।

नीचे दिए बटन को क्लिक करके इस पोस्ट को मित्रों में शेयर करें