फिल्म समीक्षा- वास्तविक कहानी की दमदार कॉमेडी के साथ प्रस्तुति है ‘सिमरन’

अरे चिंटू….साल की मोस्ट अवेटेड फिल्मों में से एक सिमरन भी आज रिलीज हो गई। जरा बताना कि फिल्म की कहानी कैसी है? और फिल्म को सिनेमाघरों में जाकर देखें या न देखें.

कहानी

सबसे पहले फिल्म की कहानी पर आते हैं..फिल्म की कहानी एक रियल लाइफ बॉम्बसेल बैंडिट और गैंबलिंग क्वीन संदीप कौर की कहानी से काफी हद तक मेल खाती है। फिल्म में कंगना रनौत एक तीस साल की तलाकशुदा महिला के किरदार में हैं, जिनका फिल्म में नाम मनीबेन है और वो हाउस कीपिंग का काम करती है। फिल्म की पूरी कहानी अमेरिका की पृष्ठभूमि पर फिल्माई गई है,  कंगना को खुशमिजाज और एडवेंचर्स होना काफी अच्छा लगता है। उन्हें जुआ खेलने और लूटने की बुरी लत होती है इसी लत की वजह से वो एक बैंक लूटती हैं. फिर वो अपनी जिंदगी में पहली बार जुआ खेलती हैं. जिसमें वो 2000 डॉलर जीततीं हैं. जिससे वो काफी खुश होती हैं. उसके बाद वो हार जाती हैं. जिसके फ्रशटेशन में वो बैंक को लूटती हैं. इसी बीच वो सोहम खान से मिलती हैं. और वो उनसे प्यार करने लगते हैं. और अपनी ऐक्टिंग के दम पर फिल्म में अपनी छाप छोड़ना चाहते हैं. लेकिन कंगना का किरदार सभी के किरदार को छोटा कर देता हैं. इसी के साथ कहानी आगे बढ़ती है. फिल्म के आखिरि में कंगना के साथ क्या होता है. इसके लिए जल्दी से टिकट कराइए और सिनेमाघरों का रुख कीजिए..

स्क्रिप्ट और डायरेक्शन

फिल्म का कहानी लिखी है अपूर्व आसरानी ने और डायरेक्ट किया हंसल मेहता ने हंसल मेहता इससे पहले शाहिद और सिटी लाइट जैसी बेहतरीन फिल्मों को डायरेक्ट कर चुके हैं। फिल्म की कहानी क्योंकि एक रियल लाइफ कैरेक्टर से इंस्पायर है तो इसे लिखा भी बेहतरीन तरीके से गया है. फिल्म को थोड़ी कॉमेडी के साथ पेश किया गया है. फिल्म का डायरेक्शन भी काफी अच्छा है. फिल्म की कहानी और डायरेक्शन आपको कहीं भी निराश नहीं करेगा.

अभिनय

फिल्म में अगर कंगना रनौत हैं तो समझो बाकियों की एक्टिंग कौन देखता है. क्योंकि कंगना अपनी एक्टिंग की वजह से बड़े से बड़े कलाकार को खा जाती हैं. चाहे फिल्म रंगून को ही लेलो. फिल्म को कंगना की एक्टिंग के लिए जाना गया. कंगना इस फिल्म में शाहिद और सैफ के रोल को तो इस तरह से लोगों के जहन से भुला दिया जैसे वो कोई नौसिखिए कलाकार हों. तो अभी भी कंगना के अभिनय के बारे में बताने की जरूरत है क्या. बाकि कलाकारों के एक्टिंग की बात करें तो सभी औसत हैं।

गीत-संगीत

फिल्म की संगीत अच्छी है. गानों में थोड़ी गुजराती टोन देने की कोशिश की गई है. क्यों कि कंगना एक गुजराती मूल की भारतीय महिला बनी हैं. फिल्म के गाने ‘ लगती है ठांय..’ , ‘सिंगल रहने दे….’  लोगों को काफी पसंद आ रहा है. फिल्म में संगीत दिया है गुजराती संगीतकार जोड़ी सचिन-जिगर ने. फिल्म में ज्यादतर क्रू मूलता गुजरात से ही संबंध रखता है. कुल मिलाकर फिल्म का संगीत औसत से थोड़ा बेहतर है।

देखे या न देखें

फिल्म को देखने की सबसे बड़ा वजह एक बेहतरीन कहानी है. और उसके साथ ही कंगना की दमदार अभिनय. फिल्म देखकर आपको कंगना की पहले की फिल्में याद आ जाएंगी. कंगना हर बार की तरह भी इस रोल में भी शानदार दिख रही हैं. तो आप एक बेहतरीन कहानी और दमदार अभिनय के लिए फिल्म को एक बार जरूर देख सकते हैं. और अगर आप कंगना के फैन हैं तो फिर क्या बात है।

फिल्म – सिमरन

रेटिंग- 3 स्टार

डायरेक्टर- हंसल मेहता

कलाकार- कंगना रनौत, सोहम खान

शैली- सीरियस-कॉमेडी ड्रामा

गीत-संगीत- सचिन जिगर

अवधि-2 घंटे 4 मिनट्स

नीचे दिए बटन को क्लिक करके इस पोस्ट को मित्रों में शेयर करें