फिल्म समीक्षा: एक रात, दो खून की मिस्ट्री की बेहतरीन पेशकश है ‘इत्तेफाक’  

अरे चिंटू, 48 साल पहले आई यश चोपड़ा और बीआर चोपड़ा की फिल्म ‘इत्तेफाक’ का रिमेक आज रिलीज हो गई। जरा बताना तो फिल्म रिमेक है, या फिर इसमें कुछ अलग है। फिल्म को देखें तो आखिर क्यों।

पहले तो यह बता दूं कि फिल्म के निर्माताओं ने पहले ही बताया कि फिल्म पुरानी ‘इत्तेफाक’ का रिमेक नहीं है। औऱ यकीन मानिए इसमें वो पूरी तरह से सच बोल रहे हैं। तो शुरू करते हैं फिल्म की पूरी समीक्षा।

कहानी

फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा जो कि विक्रम सेठी का किरदार निभा रहे हैं, और सोनाक्षी सिन्हा जो कि माया सिन्हा का किरदार निभा रही हैं। एक रात विक्रम सेठी की पत्नी की हत्या हो जाती है औऱ उसी रात माया के पति, जो कि पेशे से वकील है, उसकी भी हत्या हो जाती है। दोनों ही हत्याओं को लेकर विक्रम सेठी शक के घेरे में आता है। फिर मामले की जांच के लिए अक्षय खन्ना, जिनका कि फिल्म में नाम देव है, आते हैं। और क्योंकि यह सस्पेंश थ्रिलर फिल्म है तो हम आपको हत्यारे का नाम नहीं बता सकते है। हत्यारे का नाम जानने के लिए आपको सिनेमाघरों का रुख करना पड़ेगा।

स्क्रिप्ट और डायरेक्शन

फिल्म को अभय चोपड़ा ने डायरेक्ट किया है। काफी बेहतरीन तरीके से फिल्म को डायरेक्ट किया गया है। फिल्म की कहानी की बात करें तो बेहतरीन है, बिना गाने के भी फिल्म की कहानी आपको बांधे रखती है। और फिल्म का समय भी काफी सीमित होने की वजह से यह आपको पूरे समय बांधे रखती है।

अभिनय

फिल्म में अभिनय की बात करें तो सिद्धार्थ मल्होत्रा का अभिनय उनकी पहली फिल्मों की तुलना में काफी बेहतरीन है, वहीं सोनाक्षी ने भी काफी नेचुरल एक्टिंग की है। और इंस्पेक्टर बने अक्षय खन्ना की बात करें तो यह उनके करियर की बेहतरीन एक्टिंग साबित होगी। इससे पहले अक्षय फिल्म ’36 चाइना टाउन’ में भी पुलिस बने थे। तो मान लीजिए आप कि उन्होंने इस फिल्म में उससे भी बेहतरीन एक्टिंग की है।

देखें या न देखें

फिल्म बिना गानों के आपको बांधे रखने में कामयाब साबित होती है। और अगर आप सस्पेंश फिल्में देखने के शौकीन हैं तो जरूर देखिए। आपको पैसा वसूल मूवी लगेगी।

फिल्म- इत्तेफाक

रेटिंग- 2.5 स्टार

कलाकार- सोनाक्षी सिन्हा, सिद्धार्थ मल्होत्रा, अक्षय खन्ना

डायरेक्टर- अभय सिन्हा

अवधि- 1.47 घंटा

नीचे दिए बटन को क्लिक करके इस पोस्ट को मित्रों में शेयर करें